टी20 वर्ल्ड कप फाइनल 2021: टी20 वर्ल्ड कप 2021 का फाइनल मुकाबला आज दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेला जाएगा। ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच होने वाले इस मैच में दोनों टीमों के सभी खिलाड़ी अपनी तरफ से पूरी कोशिश करेंगे, लेकिन कुछ चुनिंदा खिलाड़ी ऐसे भी होंगे जिन पर हर वक्त नजर रहेगी. ये वो खिलाड़ी हैं जो अपनी टीम को सबसे खराब स्थिति से उबारने की क्षमता रखते हैं। कौन हैं ये खिलाड़ी जिन्होंने बदल दी मैच की दशा और दिशा? यहां पढ़ें…

जेम्स नीशम : गेंद और बल्ले दोनों से दिखा कमाल
टी20 वर्ल्ड कप 2021 के सेमीफाइनल मुकाबले में एक समय न्यूजीलैंड को 24 गेंदों में 57 रनों की जरूरत थी. 17वें ओवर में नीशम ने जॉर्डन की गेंदों का सामना किया. इस ओवर में नीशम ने चौके लगाए और 19 रन बनाए। जॉर्डन की लाइन लेंथ इतनी खराब हो गई कि उन्होंने इस ओवर में 4 अतिरिक्त रन भी दिए। इस तरह इस ओवर में 23 रन निकले। यह ओवर मैच का टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ और न्यूजीलैंड ने एक ओवर शेष रहते जीत दर्ज कर ली।

नीशम को जब भी मौका मिला उन्होंने इस टूर्नामेंट में रन बनाए। अफगानिस्तान के खिलाफ करो या मरो के मैच में भी नीशम ने 23 गेंदों में 35 रन बनाए और गेंदबाजी में 6 रन देकर 1 विकेट लिया। वह इस मैच के मैन ऑफ द मैच रहे। उन्होंने पिछले 6 मैचों में 4 बार बल्लेबाजी की है, जिसमें वे 2 बार नाबाद रहे हैं।

डेरेल मिशेल: वह शख्स जिसने पहली बार न्यूजीलैंड को टी20 विश्व कप तक पहुंचाया
डेरेल मिशेल इस विश्व कप में न्यूजीलैंड के प्रमुख स्कोरर हैं। उन्होंने 6 मैचों में 40 की औसत से 197 रन बनाए हैं। उनका स्ट्राइक रेट भी 140 रहा है। इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में जब 12 गेंदों पर 20 रन की जरूरत थी, तो मिशेल ने जीत दिलाने के लिए 6 गेंदों में 20 रन बनाए। टीम के लिए। इस मैच में उन्होंने 47 गेंदों में 72 रनों की नाबाद पारी खेली. वह गेंदबाजी में भी टीम के लिए लगातार विकेट लेते रहे हैं।

ट्रेंट बोल्ट: इस विश्व कप में न्यूजीलैंड के लिए सर्वाधिक विकेट
न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट इस विश्व कप में चौथे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। उन्होंने 6 मैचों में 11 विकेट लिए हैं। इस दौरान बोल्ट का इकॉनमी रेट भी 7 से कम रहा है। उन्होंने ग्रुप चरण में अफगानिस्तान के खिलाफ 17 रन देकर 3 विकेट लिए। इस अहम मुकाबले को जीतकर न्यूजीलैंड ने सेमीफाइनल का टिकट पक्का कर दिया था। टीम इंडिया के खिलाफ भी बोल्ट ने 3 विकेट लिए और न्यूजीलैंड की जीत की राह आसान कर दी।

डेविड वॉर्नर : उनका बल्ला लगातार रन उगल रहा है
पाकिस्तान के खिलाफ 177 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए जब ऑस्ट्रेलिया ने कप्तान फिंच का विकेट एक रन पर गंवा दिया तो वार्नर ने टीम को संभाला. उन्होंने 30 गेंदों में 49 रन की पारी खेलकर ऑस्ट्रेलिया पर दबाव नहीं बनने दिया. ग्रुप चरण में वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने 56 गेंदों में 89 रन बनाए। इस वर्ल्ड कप में वॉर्नर का बल्ला जमकर चला है। उन्होंने अब तक 6 मैचों में 236 रन बनाए हैं। वह इस वर्ल्ड कप में रन बनाने के मामले में चौथे नंबर पर हैं। ऑस्ट्रेलिया की अच्छी शुरुआत की जिम्मेदारी उन्हीं के कंधों पर है.

एडम ज़म्पा: विश्व कप में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज
जम्पा टूर्नामेंट के प्रमुख गेंदबाज हैं। उन्होंने 6 मैचों में 12 विकेट लिए हैं। वह हर मैच में टीम के लिए विकेट लेते रहे हैं। बांग्लादेश के खिलाफ उन्होंने महज 19 रन देकर 5 विकेट लिए. वह बांग्लादेश और श्रीलंका के खिलाफ मैन ऑफ द मैच रहे। इस टूर्नामेंट में उन्होंने प्रति ओवर 6 से कम रन दिए हैं।

मिचेल स्टार्क: आप किसी भी समय मैच का पासा पलट सकते हैं
2015 विश्व कप के ग्रुप स्टेज मैच में न्यूजीलैंड ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत के बहुत करीब था। न्यूजीलैंड को 33 ओवर में जीत के लिए सिर्फ 80 रनों की जरूरत थी और उसके 9 विकेट बचे थे। यहां से स्टार्क ने न्यूजीलैंड के 6 खिलाड़ियों को एक के बाद एक पवेलियन भेजकर मैच को रोमांचक बना दिया। ऑस्ट्रेलिया को इस बार भी स्टार्क से कुछ इसी तरह के प्रदर्शन की उम्मीद होगी। वह इस विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे सफल गेंदबाज रहे हैं। उन्होंने 6 मैचों में 9 बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा है.

यह भी पढ़ें..

क्रिकेट यादें: ऑस्ट्रेलिया बनाम न्यूजीलैंड क्रिकेट के तीन अविस्मरणीय संघर्ष..

T20 World Cup final: 2019 वर्ल्ड कप फाइनल की हार का बदला न्यूजीलैंड ने लिया, अब 2015 का हिसाब चुकता करने की तैयारी

Write A Comment