विराट कोहली पर वीरेंद्र सहवाग: टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली क्रिकेट के सभी प्रारूपों के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक हैं। कोहली के नाम कई रिकॉर्ड हैं. कोहली बल्लेबाजी के अलावा कप्तानी में भी हिट हैं और उनकी गिनती दुनिया के सबसे सफल टेस्ट कप्तानों में होती है। हालांकि उनके टेस्ट करियर की शुरुआत अच्छी नहीं रही। उन्होंने 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ डेब्यू सीरीज में 3 टेस्ट मैचों में सिर्फ 76 रन बनाए थे। सीरीज में उनके खराब प्रदर्शन के बाद उन्हें टीम से छुट्टी दे दी गई थी।

उसी साल के अंत में कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू सीरीज में टीम इंडिया की प्लेइंग 11 में वापसी की। वह ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर भी गए और अधिकांश भारतीय बल्लेबाजों की तरह, उन्हें भी ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों का सामना करना मुश्किल लगा। सीरीज के तीसरे टेस्ट से पहले कोहली की जगह एक बार फिर खतरे में थी. हालांकि, कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और वीरेंद्र सहवाग ने कोहली का समर्थन किया और वह प्लेइंग 11 में जगह बनाने में सफल रहे।

सहवाग ने कमेंट्री के दौरान साझा किया किस्सा

2015 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले सहवाग ने 2016 में भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज पर कमेंट्री के दौरान एक दिलचस्प किस्सा साझा किया। उन्होंने खुलासा किया कि चयनकर्ता कोहली को छोड़ना चाहते थे लेकिन धोनी और उन्होंने कोहली का बचाव किया। सहवाग ने कहा कि चयनकर्ता चाहते थे कि 2012 पर्थ टेस्ट में कोहली की जगह रोहित शर्मा को प्लेइंग 11 में शामिल किया जाए। मैं तब उप-कप्तान था और धोनी टीम का नेतृत्व कर रहे थे। हमने कोहली को टीम में रखने का फैसला किया।

सहवाग और धोनी का यह फैसला कोहली के करियर में अहम रहा है। वह इसके बाद एक बार भी टीम से बाहर नहीं हुए हैं। उन्होंने पर्थ टेस्ट की पहली पारी में 44 और दूसरी पारी में 75 रन बनाए। टीम इंडिया इस मैच को एक पारी और 37 रन से जीतने में सफल रही।

यह भी पढ़ें- हार्दिक पांड्या से खफा बीसीसीआई, न्यूजीलैंड सीरीज के लिए हो सकती है टीम से छुट्टी

शोएब अख्तर मुसीबत में: शोएब अख्तर को लाइव शो छोड़ना होगा महंगा, पीटीवी ने 10 करोड़ रुपये हर्जाने के रूप में मांगे

Write A Comment