कानपुर टेस्ट मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरी पारी में 9 विकेट लेने के बावजूद टीम इंडिया मैच नहीं जीत सकी. कीवी टीम के निचले क्रम के बल्लेबाजों ने संयम से खेलते हुए मैच ड्रा करा दिया. भारतीय टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह तीसरी बार है जब वह मैच की चौथी पारी में 9 विकेट लेने के बाद भी मैच नहीं जीत सकीं।

साल 1978 और 2006 का वो टेस्ट मैच

1978 में भारत ने 29 दिसंबर से कोलकाता में खेले गए टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज के सामने 335 रनों का लक्ष्य रखा था. वेस्टइंडीज ने अपनी दूसरी पारी में 9 विकेट के नुकसान पर 197 रन बनाए और मैच ड्रॉ कराने में सफल रही। क्रिकेट फैंस को ये टेस्ट मैच आज भी याद हैं। और इसकी वजह है महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर।

ईडन गार्डन्स में खेले गए इस टेस्ट मैच में गावस्कर दोनों पारियों में शतक बनाकर मैन ऑफ द मैच बने। गावस्कर ने उस मैच की पहली पारी में 107 और दूसरी पारी में नाबाद 182 रन बनाए थे. उस मैच में करसन घावरी ने भी कमाल की गेंदबाजी की थी। उन्होंने दो पारियों में कुल 7 विकेट लिए।

इसके बाद भारत ने 2006 में सेंट जॉन्स में खेले गए टेस्ट मैच की पहली पारी में 241 रन बनाए। वेस्टइंडीज की टीम ने 130 रनों की बढ़त ले ली। लेकिन दूसरी पारी में वसीम जाफर के दोहरे शतक की बदौलत भारतीय टीम को 391 रनों की बढ़त मिल गई. दूसरी पारी में 9 विकेट गंवाने के बावजूद वेस्टइंडीज की टीम मैच ड्रॉ कराने में सफल रही.

कोलकाता और सेंट जॉन्स के बाद टेस्ट क्रिकेट में यह तीसरा मौका है जब दूसरी पारी में विपक्ष के 9 विकेट लेने के बावजूद भारतीय टीम मैच नहीं जीत सकी।

यह भी पढ़ें- Ind vs NZ: टीम इंडिया और जीत के बीच बनी दीवार न्यूजीलैंड के रचिन रवींद्र, 4 साल बाद भारत में ड्रॉ हुआ था टेस्ट

IPL मेगा नीलामी 2022: आईपीएल फ्रेंचाइजी किन खिलाड़ियों को रिटेन कर सकती है, यहां देखें पूरी लिस्ट

Write A Comment