टी20 वर्ल्ड कप: दक्षिण अफ्रीका ने टी20 वर्ल्ड कप के ग्रुप-1 में 5 में से 4 मैच जीते थे. इसके बावजूद वह सेमीफाइनल में नहीं पहुंच पाए। इतने ही मैच जीतकर ऑस्ट्रेलिया ने सेमीफाइनल में जगह बनाई. ऐसा ऑस्ट्रेलिया के बेहतर नेट रन रेट की वजह से हुआ।

क्रिकेट प्रेमी अक्सर नेट रन रेट का गणित नहीं समझते हैं। कुछ लोग इसकी गणना करते हैं लेकिन यह सटीक नहीं है। ऐसे में आज हम आपको क्रिकेट में नेट रन रेट की गणना कैसे की जाती है इसका पूरा गणित समझा रहे हैं।

नेट रन रेट फॉर्मूला क्या है?
किसी टीम का नेट रन रेट कैलकुलेट करने के लिए 4 बातें जानना जरूरी है-
1. टीम ने कितने ओवर खेले
2. टीम द्वारा बनाए गए कुल रन
3. टीम द्वारा फेंके गए ओवरों की कुल संख्या
4. टीम के खिलाफ कितने रन बनाए

जब आपके पास इन चारों की गिनती हो जाए तो उसे एक सूत्र में डाल दिया जाता है। यह है सूत्र..

नेट रन रेट = टीम द्वारा बनाए गए कुल रन / टीम द्वारा खेले गए कुल ओवर – टीम के खिलाफ कितने रन बने / टीम द्वारा फेंके गए कुल ओवर

यानी पहले टीम के कुल रन को उसके द्वारा खेले गए ओवरों की संख्या से विभाजित किया जाता है। इसी तरह, उस टीम के खिलाफ बनाए गए रनों की संख्या को टीम द्वारा फेंके गए ओवरों से विभाजित किया जाता है। इसके बाद पहले आए कुल में से दूसरा योग घटा दिया जाता है। अब जो बचा है उसे आपकी टीम का नेट रन रेट कहते हैं।

इसमें जिन बातों का ध्यान रखा जाता है..
1. टीम ने कितने विकेट लिए हैं या कितने हारे हैं, यह नेट रन रेट पर मायने नहीं रखता।
2. अगर कोई टीम 20 ओवर से पहले ऑल आउट हो जाती है, तो फॉर्मूला में टीम के सभी ओवरों की गणना शामिल होती है।
3. अगर कोई टीम 15.3 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लेती है तो 0.3 को हाफ ओवर मानकर 15.5 लिखा जाता है।

टी20 क्रिकेट में विराट कोहली की कप्तानी पारी 30वीं जीत के साथ खत्म, टी20 में ये है उनका सक्सेस रेट

T20 World Cup: टीम इंडिया के हिटमैन ने T20 इंटरनेशनल में पूरे किए 3000 रन, ऐसा करने वाले वो दुनिया के तीसरे खिलाड़ी

Write A Comment