टीम इंडिया पर सुनील गावस्कर: पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा कि भारतीय बल्लेबाजों का मजबूत टीमों के खिलाफ रन बनाने में नाकामी टीम के टी20 विश्व कप से जल्दी बाहर होने का मुख्य कारण था। उन्होंने टीम से पावरप्ले के ओवरों में अपना रवैया बदलने का आग्रह किया। सुपर 12 के पहले दो मैचों में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड से हारकर भारत सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो गया। गावस्कर ने कहा, ‘जिस तरह से पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के गेंदबाजों ने हमारे बल्लेबाजों पर अंकुश लगाया, उन्हें खुलकर खेलने नहीं दिया, वह था भारत के आगे न बढ़ने का मुख्य कारण। ओस (दूसरी पारी में) बल्लेबाजी को आसान बना रही थी क्योंकि गेंद टर्न नहीं ले रही थी और स्पिनर सीधे जा रहे थे।

“बाद में बल्लेबाजी करने का एक फायदा था लेकिन अगर आपने 180 रन बनाए होते, तो गेंदबाजों को बचाव के लिए अतिरिक्त 20-30 रन मिलते। जब आप 111 (न्यूजीलैंड के खिलाफ) बना रहे होते हैं, तो ओस मायने नहीं रखती। हमने टी स्कोर रन और यही मुख्य कारण है, और कुछ नहीं।

गावस्कर ने भी फील्डिंग पर उठाए सवाल

गावस्कर टीम में आमूलचूल बदलाव के पक्ष में नहीं हैं और उन्होंने टीम से पावरप्ले के ओवरों में अपना रवैया बदलने को कहा। उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि टीम में आमूलचूल बदलाव से कोई फर्क पड़ेगा। आपको अपना रवैया बदलने की जरूरत है, जैसे कि पावरप्ले के ओवरों का फायदा उठाना जो भारत पिछले कुछ विश्व कप में नहीं कर पाया है। गावस्कर ने कहा, ‘सच्चाई यह है कि पहले छह ओवर में सिर्फ दो क्षेत्ररक्षक 30 गज के दायरे से बाहर हैं, भारत ने पिछले कुछ आईसीसी टूर्नामेंटों में इसका फायदा नहीं उठाया।

उन्होंने कहा, ‘जब भी भारत का सामना एक मजबूत टीम से हुआ जिसके पास अच्छे गेंदबाज हों… इसमें बदलाव की जरूरत है। गावस्कर ने यह भी कहा कि भारत के खराब प्रदर्शन का एक और कारण क्षेत्ररक्षण था। उन्होंने कहा, ‘दूसरा और बहुत महत्वपूर्ण, उनके पास ऐसे खिलाड़ी होने चाहिए जो क्षेत्ररक्षण में बेजोड़ हों। न्यूजीलैंड ने जिस तरह से फील्डिंग की, रन बचाए, कैच लिए, वह काफी मायने रखता है।

यह भी पढ़ें- हार्दिक पांड्या से खफा बीसीसीआई, न्यूजीलैंड सीरीज के लिए हो सकती है टीम से छुट्टी

शोएब अख्तर मुसीबत में: शोएब अख्तर को लाइव शो छोड़ना होगा महंगा, पीटीवी ने 10 करोड़ रुपये हर्जाने के रूप में मांगे

Write A Comment